Best poem in hindi – आखिर क्यों नहीं किया प्रतिप्रश्न

शेयर करें!

नमस्कार दोस्तों, दोस्तों आज हम आपके लिए लेकर आए है। मीनाक्षी कुंडू द्वारा लिखी (best poem in hindi) हिंदी की कविता “आखिर क्यों नहीं किया प्रतिप्रश्न”। आपको यह hindi kavita जरूर पसंद आएगी। 

क्यों नहीं पूछता कोई प्रतिप्रश्न, किस बात से डरता है

 जो प्रश्न पूछता है वह भला, किस बात का दम भरता है,

 

राम ने जब सीता की पवित्रता पर सवाल उठाया

 क्यों नहीं सीता ने इस बात पर बवाल मचाया

 समा गई धरती में, त्याग दिया तन

 क्यों नहीं किया प्रतिप्रश्न। 

 

जब द्रौपदी को सभा में बुलाया गया

 रुलाया और सताया गया

 उसने पांडवों को क्यों नहीं लताड़ा 

  हो रहा था जब चीरहरण

 क्यों नहीं किया प्रतिप्रश्न। 

 

अहिल्या को श्राप देकर पत्थर का बना दिया

 बिन बात ही उसे अपराधिन बता दिया

 जब ऋषि गौतम का था उसका तन और मन

 क्यों नहीं किया प्रतिप्रश्न। 

 

अपनी ताकत खुद बनकर

 उठाओ जरा कदम

 जब अधिकारों का हनन

 तो पूछो प्रतिप्रश्न।। 


ये कविताएँ भी पढ़ें :-

Prem kavita in hindi | हुई राधिका कृष्ण दिवानी
Motivation poem hindi – चलना अभी जरूरी है!
Short Poetry in Hindi – चिड़िया का घोंसला

दोस्तों, अगर आपको यह हिंदी कविता पसंद आई है। तो आप इस कविता को जरूर share करें, अपने दोस्तों के साथ, ऐसी ही और hindi kavita, hindi story और hindi shayari के लिए shayaribell.com को follow करें 

Written by:- Minakshi Kundu
Image credit:- canva.com


शेयर करें!

Add a Comment

Your email address will not be published.