Inspirational story in hindi -बचत का महत्व

शेयर करें!

Inspirational story in hindi में आप पढ़ने जा रहे है। एक नई कहानी (new moral story in hindi) जिसका नाम है “बचत का महत्व” यह hindi moral story for kids बच्चों को पैसों की बचत का महत्व बताएगी।

किसी गांव में सुखदेव नाम का एक बूढ़ा आदमी रहता था। वह बहुत ही समझदार और अनुशासन प्रिय व्यक्ति था। उसका भरा-पूरा परिवार था। परिवार में उसकी पत्नी, दो बेटे, दो बहुएँ व तीन पोतियाँ और एक पोता था। घर का छोटे से छोटा व बड़े से बड़ा कोई भी काम उसकी इजाजत के बिना नहीं होता था।

सुखदेव हिसाब का पक्का था। उसे फिजूलखर्ची बिल्कुल भी पसंद नहीं थी। उसकी इसी आदत के कारण घर में सभी उसे कंजूस कहते थे लेकिन वह घर की जरूरतों को पूरा करने के बाद जो भी पैसा बचता उसे बड़े संभाल कर रखता था।

एक दिन सुखदेव अपनी बहन से मिलने दूसरे गाँव गया हुआ था। घर पर सभी खुश थे कि आज बिना रोक-टोक के खूब मजे करेंगे। शाम का वक़्त था, घर के सभी बड़े चाय के साथ मिठाइयों का लुत्फ़ उठा रहे थे और बच्चे छत पर पतंग उड़ा रहे थे। अचानक सुखदेव का पोता गोलू जो घर में सबसे छोटा और सबका लाडला था, पैर फिसलकर छत से गिर गया। उसके सिर से खून बहने लगा, सब घबरा गए और पड़ोसियों की मदद से शहर के अस्पताल में उसे भर्ती करवाया गया। वो कहते हैं ना मुसीबत अकेली नहीं आती, इस परिवार के साथ भी ऐसा ही हुआ।

ज्यादा खून बह जाने की वहज से डॉक्टर ने तुरंत ऑपरेशन करने के लिए बोल दिया और साथ ही साथ होने वाले खर्च के बारे में भी बता दिया। ‘दो लाख रूपये खर्च होंगे’ ये बात सुनकर घरवालों के पैर के नीचे से जमीन खिसक गई क्यूंकि एक साधारण आय वाले परिवार के लिए ये रकम बहुत बड़ी थी।

तब तक सुखदेव भी अस्पताल में पहुँच चुका था। जब उसे पूरी बात का पता चला तो उसने डॉक्टर को तुरंत ऑपरेशन करने के लिए कह दिया, घरवाले उसका मुँह ताक रहे थे कि उसने ऑपरेशन करने के लिए बोल तो दिया लेकिन पैसों का प्रबंध कहाँ से होगा। सुखदेव उनके चेहरे के हाव-भाव समझकर बोला- चिंता मत करो, मैं जो थोड़ी -थोड़ी बचत करता था, आज वो पूँजी ऑपरेशन के लिए दे रहा हूँ।

ये बात सुनकर सबको राहत भी मिली और सुखदेव की बचत करने की आदत का महत्व भी समझ आ गया।

कुछ समय बाद गोलू बिल्कुल स्वस्थ होकर घर आ गया था। सभी बहुत ख़ुश थे, साथ ही साथ एक बात और अच्छी हुई कि अब सभी ने सुखदेव के बचत करने के नियम को अपना लिया था। घर के सभी सदस्य अपनी जरूरतों के बाद बचे पैसों को खर्च करने से पहले सोचने लगे और कुछ पैसे बचाने की कोशिश करने लगे। अब घर में सभी बच्चों के पास गुल्लक थी, जिसमें एक-एक या दो-दो रूपये के सिक्के जमा किए जाते थे। उस एक हादसे ने सबके जीवन को बदल दिया था।

सुखदेव ने सबको समझाया कि बीमारी या कोई मुसीबत किसी भी समय आ सकती है। वह इस बात को अच्छी तरह समझता था इसीलिए कभी कभी सख्त भी हो जाता था लेकिन अब घरवालों के बदले व्यवहार को देखकर सुखदेव ख़ुश भी था और उनके भविष्य के लिए निश्चिन्त भी हो गया था।

अगर सुखदेव बचत नहीं करता तो उसके परिवार पर मुसीबतों का पहाड़ टूट जाता और पैसों के लिए पता नहीं कहाँ-कहाँ भटकना पड़ता।

शिक्षा (Moral of the story)- यह कहानी हमें बचत करने का महत्व समझाती है।


दोस्तों, आपको यह new moral story in hindi “बचत का महत्व” कैसी लगी, दोस्तों, बचत का महत्व हम सब को पता होने चाहिए, क्योंकि अगर हम बड़े बचत करेंगे, तो बच्चों को सीखा सकते है। आज के समय में पैसे और समय का बहुत महत्व है इन दोनों की बचत से हम अपने लक्षय को पा सकते है हमे comment करके जरूर बताएं आपको यह हिंदी की कहानी कैसी लगी। ऐसी ही और moral story, funny story, motivation story पढ़ने के लिए shayaribell.com को follow करना न भूलें।
धन्यवाद !

Written by:- Minakshi Kundu
Image credit:- canva.com


शेयर करें!

Add a Comment

Your email address will not be published.