Kumar Vishwas Poetry | अमावस की काली रातों में

शेयर करें!

आज के आर्टिकल में आप पढ़ने जा रहे है, Kumar Vishwas Poetry “अमावस की काली रातों में” कुमार विश्वास जी भारत के एक प्रसिद्ध कवि, वक्ता और सामाजिक-राजनैतिक कार्यकर्ता हैं। मुझे उम्मीद है आपको kumar vishwas poem से ली गई यह कविता जरूर पसंद आएगी। यह हिंदी में कविता कुमार विश्वास की प्रसिद्ध कविता है।

अमावस की काली रातों में दिल का दरवाजा खुलता है,

जब दर्द की काली रातों में गम आंसू के संग घुलता है,

जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट अकेले होते हैं,

जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं, सब सोते हैं, हम रोते हैं।

जब बार-बार दोहराने से सारी यादें चुक जाती हैं,

जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की नस दुःख जाती है,

तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,

और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।


जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़ सवाली होते हैं,

जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने गाली होते हैं,

जब बासी फीकी धूप समेटे दिन जल्दी ढल जता है,

जब सूरज का लश्कर छत से गलियों में देर से जाता है।

जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन ही मन घुट जाती है,

जब कालेज से घर लाने वाली पहली बस छुट जाती है,

जब बेमन से खाना खाने पर माँ गुस्सा हो जाती है,

जब लाख मन करने पर भी पारो पढ़ने आ जाती है।

जब अपना हर मनचाहा काम कोई लाचारी लगता है,

तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,

और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।

जब कमरे में सन्नाटे की आवाज़ सुनाई देती है,

जब दर्पण में आंखों के नीचे झाई दिखाई देती है,

जब बड़की भाभी कहती हैं, कुछ सेहत का भी ध्यान करो,

क्या लिखते हो दिन भर, कुछ सपनों का भी सम्मान करो।

जब बाबा वाली बैठक में कुछ रिश्ते वाले आते हैं,

जब बाबा हमें बुलाते है, हम जाने में घबराते हैं,

जब साड़ी पहने एक लड़की का फोटो लाया जाता है,

जब भाभी हमें मनाती हैं, फोटो दिखलाया जाता है।

जब सारे घर का समझाना हमको फनकारी लगता है,

तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,

और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।

दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं,

उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं,

वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है,

चुप चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है।

जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ,

लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ।

उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा,

सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा,

बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है,

और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।


दोस्तों, कैसी लगी आपको Kumar Vishwas Poem से ली गई “अमावस की काली रातों में” कविता। ऐसे ही और inspiring poem in hindi, hindi poems पढ़ने के लिए shayaribell.com को follow जरूर करें।  
धन्यवाद!
Image credit:- Canva.com


शेयर करें!

Add a Comment

Your email address will not be published.