Nature Poem | झिलमिल तारे कविता / सुभद्राकुमारी चौहान

शेयर करें!

Best kavita in hindi में आप पढ़ रहे है, Nature Poem “झिलमिल तारे” यह कविता सुभद्राकुमारी चौहान जी ने लिखी है। आपको यह कविता जरूर पसंद आएगी।

कर रहे प्रतीक्षा किसकी हैं
झिलमिल-झिलमिल तारे?
धीमे प्रकाश में कैसे तुम
चमक रहे मन मारे।।

अपलक आँखों से कह दो
किस ओर निहारा करते?
किस प्रेयसि पर तुम अपनी
मुक्तावलि वारा करते?

करते हो अमिट प्रतीक्षा,
तुम कभी न विचलित होते।
नीरव रजनी अंचल में
तुम कभी न छिप कर सोते।।

जब निशा प्रिया से मिलने,
दिनकर निवेश में जाते।
नभ के सूने आँगन में
तुम धीरे-धीरे आते।।

विधुरा से कह दो मन की,
लज्जा की जाली खोलो।
क्या तुम भी विरह विकल हो,
हे तारे कुछ तो बोलो।

मैं भी वियोगिनी मुझसे
फिर कैसी लज्जा प्यारे?
कह दो अपनी बीती को
हे झिलमिल-झिलमिल तारे!



Nature Poem “झिलमिल तारे” कविता आपको कैसी लगी, हमें जरूर बताएं, यदि आपको इसमें कोई भी कमी लगे या आप अपना कोई सुझाव देना चाहें तो आप नीचे comment ज़रूर कीजिये। अगर आप अपना कोई भी विचार हमसे साँझा करना चाहते है comment के ज़रिये आप साँझा कर सकते है। इस blog post को अधिक से अधिक share कीजिये और यदि आप ऐसे ही और रोमांचिक poems, stories और shayari  इत्यादि हिन्दी में पढना चाहते हैं तो हमें subscribe ज़रूर कीजिये।

subhadra kumari chauhan
Image credit:- Canva.com


शेयर करें!

Add a Comment

Your email address will not be published.