Love Story in Hindi | एक लड़की भीगी-भागी सी

शेयर करें!

Love Story in Hindi में आप पढ़ने जा रहे है। एक प्रेम कहानी “एक लड़की भीगी-भागी सी” दोस्तों, आपने romantic love story in hindi बहुत सी पढ़ी और सुनी होगी। आज की हमारी यह प्यार की कहानी (new story of love) बिल्कुल नई है और आपको यह कहानी जरूर पसंद आएगी।

Love Story in Hindi

एक लड़की भीगी-भागी सी, सोती रातों में जागी सी…

बाहर बारिश हो रही थी, और अंदर हरीश ये रोमांटिक गाना गा रहा था। हाथों में गरमा-गरम अदरक वाली चाय का प्याला, रात का सन्नाटा और हमदम का साथ, शायद इसी को जन्नत कहते हैं।

खुद की सोच पर ही सपना मुस्कुरा दी। हरीश वाकई बहुत अच्छा गाना गाता था। उसका गाना माहौल को और भी ज्यादा खुशनुमा बना रहा था।

गाना समाप्त हुआ तो हरीश ने दाद की चाह में सपना की ओर देखा। सपना ने भी अपने खास अंदाज में उसके गाने की तारीफ की। यूं ही हंसी खुशी में दोनों चाय पी रहे थे।

तभी सपना ने मज़ाक में हरीश से पूछ लिया कि ये गाना वो किस लड़की के लिए गा रहे थे, तो उसने भी नाटकीय अंदाज में कहा-

हैं कोई, तुम्हें क्यो बताऊं?

“उंह, मत बताओ, मुझे भी सुनने में कोई इंटरेस्ट नहीं हैं।” सपना ने भी इतरा कर कहा, तो हरिश की हंसी छूट गई।

“वो हमसे यूं रुठ जाते हैं बार-बार,
कि उन्हें मनाने में हमारे आंसू बहते हैं ज़ार ज़ार!!”

हरीश ने उसे मनाने के लिए जोड़ तोड़ कर शायरी बना ली। उस पर सपना ने भी अपनी तरफ़ से जोड़ दिया।

“बड़ी ही फालतु शायरी करते हैं आप,
ऐसे ही बस कुछ भी कहते हैं आप!!!”

सपना के इस शेर पर दोनों खिलखिला कर हंस पड़े। और फिर बातों में मशगूल हो गए। तभी सपना उठी और अचानक ही नीचे की ओर भागी, और गार्डन में जाकर भीगने लगी। हरीश ऊपर से ही उसे भीगते देख रहा था। सपना को बारिश कितनी पसंद है उसे अच्छे से पता था। तो रात होने के बावजूद उसने उसे भीगने से रोका नहीं।

जी भर के भीगने के बाद सपना ऊपर आई, तो हरीश उसे देख कर फिर गुनगुना उठा। “इक लड़की भीगी भागी सी…..”

सपना ऐसे ही गीली उसके सामने चेयर पर बैठ गई। नीचे बारिश में हंसते हुए नाचने वाली सपना अचानक ही गंभीर हो गई। उसे बिमार होने का कोई ड़र नहीं था। हरीश ने उसे कपड़े बदलने को कहा तो वो बोली-

“हरीश, अब तुम जब तक मुझे उस लड़की के बारे में नहीं बताते, मैं ऐसे ही सारी रात यहां गीली की गीली बैठी रहूंगी, मैं अगर बीमार पड़ गई तो याद रखना इसके भी जिम्मेदार तुम ही होंगे।” ये बात सपना सिरियसली बोल रहीं थीं। हरिश, सपना के, उसके प्रति पागलपन से अच्छी तरह वाकिफ था। सपना को समझाने की गरज से उसने कहा,

“सपना मैंने तो मज़ाक में कहा था जान, तुम्हें चिढ़ाने के लिए मैंने ऐसा कहा था। वरना तुम तो मुझे बचपन से जानती हो, मेरी जिंदगी में अब कोई नहीं है, और न ही कभी होगा। तुम आज फिर से बहक रही हो।”

“मैं बहक रही हूं, मैं, क्या मैंने तुम्हें रंगे हाथों नहीं पकड़ा था, रुही के साथ, बोलो।

सपना और हरीश बचपन के दोस्त थे। कॉलेज में उन दोनों की दोस्ती रुही के साथ हुई, और वो भी उनकी बेस्ट फ्रेंड बन गई। हरीश और रुही एक दूसरे को चाहने लगे थे। सपना ये बात जानती थी, हरीश सपना को बस अपना बेस्ट फ्रेंड ही समझता था मगर सपना उसे बचपन से प्यार करती थी, और उसके साथ ही शादी करना चाहती थी। सपना हरीश के प्रति पागलपन की हद तक पजेसिव थी। वो हरीश को कभी किसी लड़की के साथ नहीं देख सकती थी। रुही के साथ भी हरीश अगर ज़्यादा बात कर लेता था, तो वो बिदक जाती थी, और दो-तीन दिन तक उनके साथ बात नहीं करती थी। फिर हरीश के बहुत मनाने के बाद ही मानती थी। अब ये हमेशा की बात हो गई थी।

रुही में सारी खुबियां होने के बावजूद हरीश के घरवाले उसे अपनी बहू नहीं बनाना चाहते थे क्योंकि वो दूसरे समाज की थी। हरीश भी ये बात अच्छी तरह जानता था कि उसके परिवार वाले इस शादी के लिए कभी नहीं मानेंगे। रुही भी समझदार थी, इसलिए दोनों ने समझदारी दिखाते हुए अलग होने का फैसला कर लिया, और सपना का रास्ता साफ हो गया। उसने साम दाम दण्ड से हरीश से शादी रचा ली।

शादी के बाद भी सपना का यही हाल था। वो बात बात पर हरीश पर शक करके उसे परेशान करती रहती थी। हालांकि वो हरीश का बेहद ध्यान भी रखती थी। उसके मुंह से निकलने के पहले ही, सपना हर बात समझ जाती थी। हरीश भी छोटी से छोटी जरुरतों के लिए सपना पर ही  निर्भर था‌। सपना ने घर भी बड़े ही अच्छे तरीके से संभाला हुआ था।

ऐसे ही जिंदगी चल रही थी। कि एक दिन, हरीश को रुही का फोन आता है, वो उससे मिलना चाहती थी। ये एक फोन हरीश और सपना की जिंदगी में तुफ़ान खड़ा कर देता है। 

हरीश और रुही  एक रेस्टोरेंट में मिलने का तय करतें हैं। सपना के स्वभाव को देखते हुए दोनों सपना को कुछ भी नहीं बताते।

मगर सपना ने किसी तरह दोनों की बात सुन ली थी। पर उसने हरीश पर ये जाहिर नहीं होने दिया।

दुसरे दिन तेज बारिश हो रही थी‌। रविवार का दिन था, सो हरीश बहुत बहाने बनाकर घर से निकला था रुही से मिलने। उसके पीछे-पीछे सपना भी निकल पड़ी।

हरीश, रुही के टेबल तक पहुंचता है और बारिश की वजह से थोड़ी गीली हो चुकी, रुही को देखकर धीरे से गाता है, एक लड़की भीगी भागी सी….. तब तक सपना लपक कर वहां पहुंच जाती है और तमाशा खड़ा कर देती हैं। रुही और हरीश दोनो ही के लिए ये बहुत ही अनएक्सपेक्टेड था। रुही, अपमान की आग में झुलसती हुई वहां से निकलने की कोशिश करती हैं तो सपना उसे थप्पड़ जड़ देती हैं। अब हरीश का भी संयम जवाब दे जाता है, और वो भी सपना को थप्पड़ मारा देता है।

सपना भुनभुनाती हुई वहां से चली जाती हैं। रुही भी बिना कुछ कहे वहां से निकल जाती है। घर जाने की बजाय हरीश अपने फ्रेंड के घर चला जाता हैं। और यहां घर पर सपना खतरनाक कदम उठा चुकी थी।

“हरिश, बोलो कुछ…. है कुछ तुम्हारे पास बोलने के लिए?” सपना की तेज आवाज से हरीश भूतकाल से निकल कर वर्तमान में आ जाता है।

“मैंने तुम्हें तब भी समझाया था सपना,और आज भी वही बात कहूंगा कि, तुम्हें बहुत बड़ी गलतफहमी हो गई थी, हम दोनों के बीच संबंध कब के खत्म हो चुके थे, वो सिर्फ एक फ्रेंडली मुलाकात थी। सिर्फ तुम्हारे सवालों से और पागलपन से बचने के लिए हमने तुम्हें नहीं बताया था। हर साल जब भी बरसात होती हैं, तुम ये हरकत ज़रुर करती हो सपना। अब बस भी करो यार 3 साल हो गए हैं उस बात को,अब मैं तंग आ गया हूं तुमसे” हरीश ने कहा।

“मुझसे तंग आ गये हो ना, तो लो मैं जा रही हूं, और इस बार तो पक्का, कभी भी नहीं आऊंगा दोबारा देखना। तुम, बुला-बुला कर थक जाओगे, पर मैं नहीं आऊंगी।” सपना ने गुस्से से कहा।

“तो जाओ ना, किसने रोका है, हर बार यही कहती हो और फिर वापस आ जाती हो।”

“इस बार नहीं आउंगी”

कहते ही सपना ने बाल्कनी से छलांग लगा दी।

सपना का शरीर नीचे निष्प्राण पड़ा था, बारिश में भीगता हुआ। ठीक उसी दिन की तरह, रेस्टोरेंट से गुस्से में निकली सपना ने घर आकर आत्महत्या कर ली थी। हरीश के घर आने तक उसका शरीर ऐसा ही भीगता रहा। 

नौटंकीबाज कहीं की। छः साल से, हर बार बारिश के मौसम में एक बार जरूर आती हैं, और हर बार लड़ाई करती हैं, और फिर कभी ना आने का फैसला करके चली जाती हैं। चलों अब अगली बारिश तक रास्ता देखूंगा पगली का। उसने नीचे झांककर देखा तो सपना नही थी।

भारी मन से, गुनगुनाते हुए वो अंदर आ गया। इक लड़की भीगी भागी सी……!!!!


दोस्तों, आपको यह new story of love कैसी लगी, हमे कमेंट करके जरूर बताए और इस कहानी को facebook, whatsapp पर शेयर कर दें। ऐसी ही और प्रेम कहानी, horror story पढ़ने के लिए shayaribell को follow करना न भूलें।
धन्यवाद!

Story in hindi written by:- Renuka raaj
Image credit:- canva.com


शेयर करें!

Add a Comment

Your email address will not be published.